ग्रामीण महिलाओं को कौशल विकास प्रशिक्षण देने के लिए पेटीएम पेमेंट बैंक की यूएनडीपी से साथ साझेदारी
Jun 18, 2018
ग्रामीण महिलाओं को कौशल विकास प्रशिक्षण देने के लिए पेटीएम पेमेंट बैंक की यूएनडीपी से साथ साझेदारी

पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने महिलाओं को वित्तीय सेवाओं के बारे में जागरूक करने और भारत के औपचारिक बैंकिंग सिस्टमों में छोटे शहरों और नगरों में राेजगार के नए अवसर पैदा करने के लिए "पीटीएम आशाकिरण" कार्यक्रम शुरु किया है। पेटीएम पेमेंट्स बैंक का लक्ष्य ग्रामीण महिलाअों को स्किल डेपलपमेंट अवसर उपलब्ध करा कर उन्हें बैंकिक एजेंट के रूप में प्रशिक्षण देना और प्रमाणित करना है।

"ये महिलाएं पेटीएम के बैंक ऑफर्स के देशव्यापी प्रसार में उत्प्रेरक (catalyst) के रूप में कार्य कर सकती हैं। बैंक ने कहा कि बैंक पूरे सरकारी निकायों और अन्य ऐसे संगठनों के साथ साझेदारी जारी रखेगा ताकि वे पूरे भारत में और अधिक महिलाओं तक पहुंच सकें। पहले चरण में बैंक ने अपने दिशा प्रोजेक्ट के रूप में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) के साथ साझेदारी की है। दिशा प्रोजेक्ट को आईकेईए फाउंडेशन द्वारा सहयोग किया जाता है। कथन के अनुसार, यह प्रोजेक्ट महाराष्ट्र, कर्नाटक, हरियाणा, आंध्र प्रदेश और उत्तर प्रदेश आदि के छोटे शहरों और कस्बों में सेल्फ-हेल्प ग्रुप को संगठित करता है और उनके लिए वर्कशॉप्स का आयोजन करता है।

पेटीएम पेमेंट्स बैंक की एमडी और सीईओ रेणु सट्टी ने कहा, " एक सामाजिक रूप से जिम्मेदार बैंक के रूप में, हमारा उद्देश्य देश के सबसे दूरस्थ शहरों और कस्बों तक  निर्बाध बैंकिंग और वित्तीय सेवाओं को पहुंचाना है। " "अपने इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए हम अपनी पहल के अंतर्गत महिलायों को सशक्त बनाने के लिए हमने पेटीएम  आशाकिरण नामक कार्यक्रम की शुरुआत की है। इस पहल के साथ, हमारा उद्देश्य महिलाओं की वित्तीय आवश्यकतों को समझना और भारत की अर्थव्यवस्था की मुख्यधारा का हिस्सा बनने के लिए उन्हें आत्मनिर्भर बनने में मदद करना है। "

पिछले साल, पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने पूरे भारत में 'पेटीएम का एटीएम' आउटलेट्स लॉन्च किया, जिसमें ग्राहक बचत खाता खोल सकेंगे और पैसे जमा और निकाल पाएंगे। पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने कहा कि ये आउटलेट्स छोटे शहरों और कस्बों तक बैंकिंग सेवाओं को पहुंचाने में महत्पूर्ण भूमिका निभा रहा है। इन आउटलेट्स के माध्यम से यह भी सुनिश्चित करना है कि ग्राहक अपने आस-पास आसानी से एक्सेस प्वाइंट पा सकें। 

"Powered by Transzaar - empowering human translators..."



SKILL NEWS