टोयोटा किर्लोस्कर मोटर (टीकेएम) की टोयोटा तकनीकी प्रशिक्षण संस्थान (टीटीटीआई) के अकादमिक वर्ष 2018-19 के लिए प्रवेश की घोषणा
Jun 19, 2018
टोयोटा किर्लोस्कर मोटर (टीकेएम) की टोयोटा तकनीकी प्रशिक्षण संस्थान (टीटीटीआई) के अकादमिक वर्ष 2018-19 के लिए प्रवेश की घोषणा

टोयोटा किर्लोस्कर मोटर (टीकेएम) ने टोयोटा तकनीकी प्रशिक्षण संस्थान (टीटीटीआई) के अकादमिक वर्ष 2018-19 के लिए प्रवेश की घोषणा की है, जो एक तीन वर्ष का डेडिकेटेड प्रोग्राम है।   टोयोटा किर्लोस्कर मोटर के उपाध्यक्ष सेलेश शेट्टी के अनुसार, यह प्रोग्राम पूरे कर्नाटक में आर्थिक रूप से कमज़ोर मेधावी विद्यार्थियों को प्लांट एडमिनिस्ट्रेशन और ऑटो मैन्युफैक्चरिंग में कुशल तकनीशियन बनने का अवसार प्रदान करता है।

टोयोटा किर्लोस्कर मोटर के उपाध्यक्ष सेलेश शेट्टी के अनुसार, पिछले 10 वर्षों में टीटीटीआई ने खुद को मेक्ट्रोनिक्स, वेल्ड पेंट और असेंबली के क्षेत्र में कौशल विकास में उत्कृष्टता के केंद्र के रूप में स्थापित किया है। हमारे छात्रों ने पिछले साल अबु दुबई में आयोजित होने वाले विश्व कौशल ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व किया है और  मेक्ट्रोनिक्स में मोडलिंग और मेडेलियन में उत्कृष्टता के लिए कांस्य पदक जीता। छात्रों को ग्लोबल मैन्युफेक्चिरिंग प्रैक्टिसिस की ट्रेनिंग दी जाती है। टीटीटीआई को जापान इण्डिया मैन्युफैक्चरिंग [जे आई एम] स्किल ट्रांसफर प्रमोशन के अंतर्गत एक ट्रेनिंग संस्थान के रूप में चुना गया है।

अपने अनुभवों को साझा करते हुए, टीटीटीआई के छात्र लोकेश ने कहा, "टीटीटीआई में साझा ट्रेनिंग और सर्वोत्तम प्रेक्टिसिस उत्कृष्ट रही है और इसने मुझे उद्योगों में रोजगार पाने योग्य बनाया। मैंने शारीरिक फिटनेस, संचार कौशल, तकनीकी जानकारियों और विनिर्माण कौशल सहित अपने समग्र व्यक्तित्व में विकास देखा। इस शानदार अवसर के लिए मैं टोयोटा का धन्यवाद करता हूं। ”

एसएसएलसी के परिणाम की घोषणा के बाद (मई 2018 के दौरान) शुरू होने वाली चुनाव प्रक्रिया में एक लिखित परीक्षा, कौशल परीक्षण, शारीरिक परीक्षण, मूल्यांकन परीक्षा, साक्षात्कार, चिकित्सा परीक्षण और पूर्ववर्ती जांच शामिल होती है।

ऑटोमोबाइल  मैन्युफैक्चरिंग में तीन वर्षीय पूर्णकालिक अपरेंटिस रेजिडेंशल में ऑटोमोबाइल असेंबली, ऑटोमोबाइल वेल्ड, ऑटोमोबाइल पेंट और मेक्ट्रोनिक्स कोर्सिस हैं। टीटीटीआई कोर्स के अंश के रूप में, एक आदर्श कर्मचारी को तैयार करने के लिए शॉप-फलॉर में ऑन-जॉब ट्रेनिंग से उसे कार्य का वास्तविक अनुभव होगा। टीटीटीआई में कोर्स ट्रेनिंग एक अनुठा मेल है, जो विद्यार्थी के संपूर्ण विकास पर केंद्रित होता है और जो ज्ञान पर (16%), कौशल (34%), शरीर और दिमाग (50%) बल देता है।

टीटीटीआई ट्रेनिंग सिर्फ क्लॉसरूम्स और वर्कशोप्स तक ही सीमित नहीं है, बल्कि यह उद्योग की आवश्यकताओं के अनुसार ट्रेनियों के समग्र विकास पर और उनको दक्ष बनाने पर बल देता है, ताकि देश में युवा, बहु-कुशल, ऊर्जावान और आदर्श छात्रों की पूर्ति की जा सके। मौजूदा समय में आटोमोटिव उद्योग में कुशल श्रमिकों की कमी है।

ट्रेनिंग समाप्त होने के बाद विद्यार्थियों को टोयोटा किर्लोस्कर मोटर, एएसडीसी (आटोमोटिव स्किल डेवलमेंट काउंसिल) और जेआईएम (जापान इंडिया इंस्टीट्यूट फॉर मैन्युफैक्चरिंग) से सर्टिफिकेट प्राप्त होते हैं और वे एन ए सी (राष्ट्रीय अपरेंटिस सर्टिफिकेट) परीक्षा में बैठने के लिए पात्र हो जाते हैं।  
कोर्स के दौरान, छात्रों को राष्ट्रीय कौशल प्रतियोगिता और विश्व कौशल प्रतियोगिता (कौशल ओलंपिक) जैसी विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भाग लेने का अवसर दिया जाता है।

टीटीटीआई को मानव संसाधन विकास के लिए जापान और भारत के बीच साझेदारी के एक हिस्से के रूप में भी चुना गया है। इसके तहत, टोयोटा किर्लोस्कर मोटर इंडो-जापानी कंपनियां होगी, जो अगले दस वर्षों में जापानी-स्टाइल मैन्युफैक्चरिंग स्किल से भारत में  30,000 लोगों को ट्रेनिंग देकर मेक-इन-इंडिया और स्किल इंडिया को सहयोग देगी जिससे भारत का मैन्युफैक्चरिंग बेस आैर विस्तृत होगा। 

"Powered by Transzaar - empowering human translators..."



SKILL NEWS